स्वरोजगार योजना के तहत अधिक से अधिक लोगों का रोजगार करें सुनिश्चित

230

फ़ोटो..जनपद मे संचालित बिभिन्न विकाश योजनाओं की समीक्षा करती डी एम।
प्रकाश कपरवान
जोशीमठ, चमोली। जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने गुरूवार को क्लेक्ट्रेट सभागार में जिला योजना, राज्य सैक्टर, केन्द्र पोषित एवं बाह्य सहायतित योजनाओं के अन्तर्गत विभिन्न विकास योजनाओं की वित्तीय एवं भौतिक प्रगति की समीक्षा करते हुए विकास कार्यो में तेजी लाने के निर्देश दिए। कहा कि रेखीय विभागों की स्वरोजगारपरक योजनाओं के तहत यथाशीघ्र अधिक से अधिक लोगों को स्वरोजगार योजनाओं का लाभ पहुॅचान सुनिश्चित किया जाए।

जिलाधिकारी ने सभी निर्माणदायी विभागों को जिला योजना के तहत प्रस्तावित कार्यो के जल्द से जल्द टेण्डर प्रक्रिया पूरी कर कार्यदायी संस्थाओं को धनराशि अवमुक्त करने के निर्देश दिए। लोनिवि एवं राजकीय सिंचाई को पिछले वित्तीय वर्ष के अवशेष कार्यो को एक माह के भीतर गुणवत्ता के साथ पूरा करते हुए शत प्रतिशत व्यय सुनिश्चित करने को कहा। कतिपय सड़कों पर क्षतिग्रस्त परिसंपत्तियों एवं भूमि का मुआवजा न मिलने संबधी शिकायतों को देखते हुए जिलाधिकारी ने सभी लंबित प्रकरणों की सूची उपलब्ध कराने के निर्देश लोनिवि को दिए। कहा कि सड़क निर्माण में किसी भी व्यक्ति की परिसंपत्ति को नुकसान होता है तो तत्काल उसका मुआवजा देना सुनिश्चित करें। कहा कि अगर नुकसान की भरपाई नही की गई तो संबधित विभाग के खिलाफ आरसी काट कर वसूली की जाएगी। शिक्षा विभाग को विकास योजनाओं की यूसीए एमबी तथा फोटो सहित पूरी रिपोर्ट उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।

कृषि, उद्यान, उद्योग, डेयरी, पशुपालन आदि रेखीय विभागों को स्वरोजगारपरक योजनाओं के तहत जल्द से जल्द बेरोजगार युवाओं को लाभान्वित करने के निर्देश दिए। कहा कि विभागीय योजनाओं से हटकर भी अगर कोई बेरोजगार काम करना चाहता है तो उसको मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना से जोडकर लाभान्वित करना सुनिश्चित किया जाए। कहा कि जनपद में लौटे प्रवासी एवं बेरोजगार युवाओं को स्वरोजगार से जोड़ने के लिए विभागीय योजनाओं के अतिरिक्त भी अगर कोई ठोस योजना है तो उसका प्रस्ताव उपलब्ध करें। इस दौरान जिला योजना के तहत विभागों द्वारा संचालित कार्यो की गहनता से समीक्षा की गई और समय से कार्यो को पूर्ण करने के निर्देश दिए गए।

मुख्य विकास अधिकारी हंसादत्त पांडे ने कहा कि सभी शिक्षण संस्थाओं को जल जीवन मिशन के तहत पेयजल कनेक्शन दिया जाना है। उन्होंने शिक्षा विभाग पेयजल कनेक्शन से वंचित शिक्षण संस्थाओं की सूची जल जीवन मिशन के नोडल अधिकारी को उपलब्ध कराने को कहा।

जिला अर्थ एवं संख्या अधिकारी आनंद सिंह जंगपांगी ने अवगत कराया कि वित्तीय वर्ष 2020-21 जिला योजना के तहत शासन से 1933.92 लाख धनराशि अवमुक्त की गई है। जिसमें से 1402.77 लाख धनराशि विभागों को आवंटित की जा चुकी है। इसके सापेक्ष अभी तक विभागों ने 23.01 प्रतिशत व्यय कर लिया गया है। राज्य सैक्टर के अन्तर्गत अवमुक्त धनराशि 5271.35 लाख के सापेक्ष 55.01 प्रतिशत, केन्द्र पोषित के तहत अवमुक्त धनराशि 7426.65 लाख के सापेक्ष 73.02 प्रतिशत विभागों द्वारा व्यय किया गया है। इस दौरान मुख्य विकास अधिकारी हंसादत्त पांडे, सीएमओ डा0 जीएस राणा सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here