गैरसैंण आंदोलनकारियों की गिरफ्तारी के खिलाफ गैरसैंण, मेहलचैरी बाजार बंद, टैक्सियां भी नहीं चली

44

गैरसैंण। गैरसैंण स्थायी राजधानी संघर्ष समिति के 35 आन्दोलनकारियों के 12 दिन की न्यायिक ‌हिरासत में जेल जाने के बाद बृहस्पतिवार को विरोध स्वरूप नगर गैरसैंण और मेहलचौरी कस्बों की सभी दुकानें बन्द रही। क्षेत्र में रामगंगा टैक्सी यूनियन की सभी टैक्सीयों का संचालन पूरे दिन बंद रहा। रामलीला मैदान गैरसैंण में धरना शूरू कर दिया।
नारे बाजी के साथ दिन के डेढ बजे मुख्य तिराहे और मेहलचौरी के व्यापारियों द्वारा प्रदेश सरकार का पुतला दहन किया गया और आंदोलनकारियों पर जडे मुकदमे वापस लेने के लिए मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेषित किया गया। इस दौरान कांगे्रस ब्लाक अध्यक्ष के एस बिष्ट, पूर्व दर्जाधारी सुरेंद्र सिंह बिष्ट और सुरेश कुमार बिष्ट, टैक्सी यूनियन के अध्यक्ष दान सिंह, दर्शन मढवाल, व्यापार संघ के महामंत्री मुकेश ढौंडियाल, जगदीश टम्टा, अजीत शाह, बिरेंद्र बिष्ट, चैत सिंह, सरेंद्र लाल, संतराम आदि तमाम लोग मौजूद रहे।

आज 11 बजे प्रातः पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत भी गैरसैंण पहुंच कर आंदोलनकारियों के समर्थन में सैकडों कार्यकार्ताओं के साथ तहसील परिसर में गिरफ्तारी देंगे। इस आशय की जानकारी देते हुए ब्लाक अध्यक्ष के एस बिष्ट और सुरेंद्र सिंह बिष्ट ने बताया कि चार जुलाई को गैरसैंण भ्रमण के दौरान हरीश रावत ने आंदोलनकारीयों के जेल जाने पर स्वयं की गिरफ्तारी देने का वादा किया था।

तीन आंदोलनकारियों की हुई जमानत
नामिका अधिवक्ता के एस झिंक्वाण ने जानकारी दी कि ‌गुरूवार को नामजद गैड निवासी अनीता देवी और मंजूदेवी ने पारिवारिक परिस्थितिवश न्यायालय में पेश होकर जमानत ले ली है, तो पार्वती देवी निवासी गैरसैंण जो पुरसाडी जेल में थी उन्होंने भी जमानत ले ली है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here